महर्षि वाल्मीकि जी के ज्ञानमय विचार | Valmiki Quotes In Hindi

Valmiki In Hindi : रामायण के रचयिता वाल्मीकि जी का पालन पोषण भील जाति में हुआ और वे एक डाकू थे। परन्तु वाल्मिकी भील जाति के नहीं थे, वास्तव में वाल्मीकि (Balmiki) जी महर्षि कश्यप और अदिति के नौंवे पुत्र (प्रचेता) की संतान थे। महर्षि वाल्मीकि का नाम रत्नाकर था जब वे एक डाकू थे। कहा जाता है कि बाल्य काल में ही महर्षि जी को एक निःसंतान भीलनी ने चुरा लिया था। महाकवि वाल्मीकि जी को ब्रह्मा जी ने रामायण लिखने की प्रेरणा दी थी। आज हम आपको रामायण रचयिता महर्षि वाल्मिकी जी के विचारो से अवगत करने जा रहे हैं जो आपके जीवन को ज्ञान के प्रकाश से भर देंगे -

वाल्मीकि के अनमोल वचन | Maharishi Valmiki  Quotes In Hindi


1. अपने दृढसंकल्प से आप कोई भी काम को आसान बना सकते हो – महर्षि वाल्मीकि

2. किसी वादे को तोड़ने से आपके किए हुए सारे अच्छे कर्म नष्ट हो जाते है – महर्षि वाल्मीकि

3. किसी व्यक्ति से अधिक मोह रखना आपके दुःख का कारण बन सकता है – महर्षि वाल्मीकि

4. जीवन में आगे बढ़ना है तो संघर्ष करो ,संघर्ष से ही आप महान बन सकते हो – महर्षि वाल्मीकि

5. आप किसी भी असम्भव कार्य को सम्भव बना सकते हो अगर आप में उत्साह हो – महर्षि वाल्मीकि

6. अपने माता-पिता की आज्ञा का पालन करना और उनकी सेवा करना ही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म है – महर्षि वाल्मीकि

7. अच्छे चरित्र के बिना आप महान नहीं बन सकते – महर्षि वाल्मीकि


वाल्मीकि जयंती पर वाल्मीकि जी के विचार | Maharishi Valmiki Jayanti Quotes In Hindi


8. इस पुरे संसार में बोहत कम ऐसे है जो काम की करते हो – महर्षि वाल्मीकि

9. किसी अन्य के प्रति घृणा का भाव रखना खुद को मैला करने के समान है – महर्षि वाल्मीकि

10. दुःख और परेशानियां जिंदगी में बिना बताए आती हैं  – महर्षि वाल्मिकी

11. अहंकार सोने जैसी बहुमूल्य भौतिक वस्तु को भी मिट्टी कर देता है – महर्षि वाल्मीकि

12. आप गुणवान है या दोष पूर्ण ,साहसी या कायर यह आपका चरित्र  बता देता है – महर्षि वाल्मीकि

13. उन लोगो को ज्ञान की प्राप्ति नहीं होती जो कुमार्ग पर चलते हैं – महर्षि वाल्मीकि

14. जीवन में हमेशा सुख ही मिले यह असंभव है – महर्षि वाल्मीकि

15. जिस प्रकार पक्के हुए फल कोई गिरने के इलावा कोई भय नहीं होता ,उसी प्रकार मनुष्य कोई मौत के इलावा कोई अन्य भय नहीं होना चाहिए – महर्षि वाल्मीकि 

Post a Comment

0 Comments