महाराजा रणजीत सिंह के बारे में विशेष तथ्य | Facts About Maharaja Ranjit Singh In Hindi

शेर-ए-पंजाब या "पंजाब का शेर" के नाम से मशहूर महाराजा रणजीत सिंह सिख साम्राज्य के नेता थे, जिन्होंने 19 वीं शताब्दी के शुरुआती समय में उत्तर पश्चिमी भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन किया था। वह शैशवावस्था में चेचक से बच गए लेकिन उनकी बायीं आंख की रोशनी चली गई। उन्होंने 10 साल की उम्र में अपने पिता के साथ पहली लड़ाई लड़ी।आइए जानते हैं महाराजा रंजीत सिंह (Raja Ranjit Singh) के बारे महत्वपूर्ण तथ्य -

राजा रणजीत सिंह के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी | Interesting Ranjit Singh Facts In Hindi


1. महाराजा रणजीत सिंह का जन्म 13 नवंबर, 1780 को हुआ था और 27 जून, 1839 को निधन हुआ।

2. रणजीत सिंह ने पहली बार केवल 10 साल की उम्र में पहली लड़ाई लड़ी थी और 17 साल की उम्र में उन्होंने अफगानिस्तान के राजा ज़मान शाह दुर्रानी के भारत पर आक्रमण को विफल किया।

3. ज़मान शाह दुर्रानी को फिर से अमृतसर की लड़ाई (1797) में रणजीत सिंह ने हराया, उसी साल गुजरात की लड़ाई और अगले साल अमृतसर की लड़ाई।

4. बचपन में महाराजा सिंह को चेचक का सामना करना पड़ा, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें अपनी एक आंख खोनी पड़ी।

5. रंजीत सिंह ने वर्ष 1799 में लाहौर पर कब्जा कर लिया, जिसे सिख साम्राज्य के लिए महत्वपूर्ण मोड़ माना जाता है।

6. रणजीत सिंह को 1801 में जब वे महज 20 साल के थे महाराजा का ताज पहनाया गया।

7. रणजीत सिंह के आठ बेटे थे, लेकिन उन्होंने केवल खरक सिंह और दलीप सिंह को अपने जैविक बेटे के रूप में स्वीकार किया।

8 साल की छोटी उम्र से ही सिंह ने शराब पीना शुरू कर दिया था क्योंकि उस समय शराब पीना गर्व की बात मानी जाती थी।

9. शेर-ए-पंजाब (Maharaja Ranjeet Singh) की 20 पत्नियां थी जिनमें से वेरे रानी महताब कौर, रानी राज कौर, रणजी रतन कौर, रानी दया कौर, एंड महारानी जिंद कौर मुख्य थी।

10. शेर-ए-पंजाब के कार्यकाल में सिख साम्राज्य बहुत ही धर्मनिरपेक्ष था क्योंकि उन्होंने विभिन्न धर्मों के पुरुषों को भी अधिकार के पदों पर पहुंचने की अनुमति दी थी।

11. उनकी सेना में कुछ यूरोपीय भी शामिल थे। हालांकि अंग्रेजों को इसमें शामिल होने की अनुमति नहीं थी क्योंकि यह माना जाता था कि उनका स्वभाव बहुत ही असंगत है।

12. रंजीत सिंह के साम्राज्य में किसी भी विषय पर उनके धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया गया था। उन्होंने कभी भी किसी को सिख धर्म को अपनाने और उसका सम्मान करने के लिए धमकाया नहीं।

13. स्वर्ण मंदिर का स्वर्ण युक्त भाग और कुछ जटिल संगमरमर का काम महाराजा रणजीत सिंह की सहायता से किया गया।

14. प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध में सिख सेना पराजित हुई और लाहौर की संधि और भीरोवल की संधि की शर्तों के तहत, सभी प्रमुख निर्णय ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा किए गए थे।

15. महाराजा रणजीत सिंह को कोह-ए-नूर हीरे के कब्जे के लिए याद किया जाता है जिसे उन्होंने ओडिशा के जगन्नाथ मंदिर में छोड़ दिया था और उन्हें अफगानिस्तान के शुजा शाह दुर्रानी ने दिया था।

16. महान शासक रणजीत सिंह जी के बारे में विशेष बात यह है कि वे सभी को एक समान मानते  थे, वे जब गद्दी पर बैठे तो उन्होंने कभी भी ताज नहीं पहना।

17. सिक्खों के शासक महाराजा रणजीत सिंह जी ने तो स्वय गौ मांस खाया और ना ही अपने दरबारियों को कभी इसे खाने की इजाजत दी।

Post a Comment

0 Comments